Girls B.Ed. ColegeRBKSTeachers Training College Rajasthan
Class Room
Class Room
B Ed College Rajasthan

संकल्प को साकार करने की दिशा में अग्रसर
३५ वर्ष तक राजकीय सेवाओं में सक्रिय रहते हुए सेवा निवृत्ति के अंतिम समय में मुझे राजस्थान बाल कल्याण समिति के कार्यकलापों का अवलोकन करने का सुअवसर प्राप्त हुआ। अवलोकन के दौरान संस्था द्वारा संचालित जनजाति उत्थान हेतु विभिन्न इकाईयों जैसे जे.आर.शर्मा स्नातकोत्तर महाविद्यालय, गुरू पुष्कर जैन महाविद्यालय, गोगुन्दा, जे.आर. महाविद्यालय, रेलमगरा, जे. आर. महाविद्यालय, पिण्डवाडा, जे.आर.महाविद्यालय ऋषभदेव, जे.आर. महाविद्यालय माउण्ट आबू, नर्सिंग कॉलेज सागवाडा (डूंगरपुर), उ. मा. विद्यालय, जनजाति छात्रावास, निराश्रित बालगृह, बालवाड़ियॉं, महिला रोजगार, ग्रामीण विकास एवं कला संस्कृति विकास आदि से मेरा जुडाव हुआ।
जे.आर.कन्या शिक्षक प्रशिक्षण महाविद्यालय का संचालन वास्तव में श्री जीवतराम शर्मा, संस्थापक, राजस्थान बाल कल्याण समिति का एक उत्कृष्ठ एवं सराहनीय कदम है। इस कॉलेज के साथ-साथ उच्च शिक्षा के लिए झाड़ोल, गोगुन्दा, पिण्डवाडा, रेलमगरा, ऋषभदेव, माउण्ट आबू जैसे आदिवासी एवं पिछडे क्षेत्र में महाविद्यालय का संचालन भी संस्थापक राजस्थान बाल कल्याण समिति, झाड़ोल द्वारा किया जा रहा है।
मैं श्री जीवतराम शर्मा की धैर्यता तथा सेवा भावनाओं का आदर करते हुए यह स्वीकार करता हूं कि वे आज भी इस संस्था की गतिविधियों की प्रगति एवं संस्था के विस्तार करने की अपूर्व क्षमता रखते हैं और इसके चहंॅुमुखी विकास को अपना अमूल्य योगदान दे रहे है ।
श्री शर्मा ने अत्यन्त पिछड़े आदिवासी बाहुल्य तहसील झाड़ोल में सन् १९५० से अपनी जीवन यात्रा एक शिक्षक के रूप में आरम्भ की। सन् १९५० से १९८१ तक वे इस क्षैत्र के कई गांवों में शिक्षा, ग्रामीण विकास, धार्मिक प्रचार-प्रसार एवं सामाजिक सेवाओं के कई आयोजन से सक्रिय रूप से जुडे रहे तथा अपने शिक्षक जीवन में क्षैत्र के हजारों बालकों को शिक्षा प्रदान करने का कार्य किया। श्री शर्मा को उत्कृष्ठ कार्यों के लिए बेस्ट सीटीजन ऑफ इण्डिया अवार्ड से सम्मानित किया गया।
वे अपने जीवन में इस क्षेत्र के विकास के लिये बहुत कुछ करने की आकांक्षाओं पर हमेशा चिन्तन करते रहे। मन की आकांक्षाओें को क्रियान्विति देने हेतु श्री शर्मा द्वारा सन् १९८१ में प्राथमिक विद्यालय की स्थापना के रूप में शिक्षा की ज्योति प्रज्ज्वलित की गई थी जो आज सेकेन्ड्री, सीनियर सेकेन्ड्री एवं स्नातकोत्तर महाविद्यालय के रूप में दैदीप्यमान है। उनके अथक परिश्रम एवं सेवाभावना की अमर स्मृति के रूप में महाविद्यालय का नाम समिति पदाधिकारियों द्वारा जे.आर.शर्मा महाविद्यालय रखा गया है। यह महाविद्यालय उच्च शिक्षा के क्षेत्र में श्री जीवतराम शर्मा (संस्थापक, राजस्थान बाल कल्याण समिति ) के संकल्प को साकार करने की दिशा में सत्र १९९९-२००० से अग्रसर है।

ब्रजमोहन दुर्गादत्त कपिल
अध्यक्ष
रा.बा.क.स., झाडोल(फ.)


Infrastructure and Facilities